Just, look at your father once. Is he pursuing for which he always longed? Or are you yourself living your dream? The career you chose was made by your wishes or your necessities? Well my poem below will make you more clear with what this article is trying to convey.

 

रोज़ देखता हूँ वही आईना,

घर से जब मैं निकलता हूँ,

यही सच्चाई है मेरी,

हरदम खुदको यही याद दिलाता हूँ ।।

याद है अब भी,

वो माँ की सीख सारी,

“पढ़ले बेटा जो कमा सके,

एक छत और ज़िदगी प्यारी ” ।।

आशाएँ तो थी, आसमानों में उड़ने की,

पर हकीकत !!

वो सुबह की चाय,

और अॉफिस की अलमारी ।।

image 2

रूकता हूँ तो सोचता हूँ,

इस छत ने मुझसे वो खुला,

आसमान छीन लिया,

ज़रूरतों ने फिरसे,

ख्वाबों का गला घोट दिया ।।

इस से अच्छी तो वो बचपन की कहानी थी,

आँखों में सपने और दिल की मनमानी थी,

ये कहाँ मैं इस दुनिया की रीत में फस गया,

खुद ही मैं देखो कैसी कैद में कैद होगया ।।

image 1

रखी होती हिम्मत अगर,

आसमानों को छूनें की,

इस घर में नहीं,

मैं उन बादलों में रहता कहीं ।।

अब तो कैद हूँ यहा,

ज़िम्मेंदारीयों का बोझ,

और नाकामियों का बोझ लेके मैं जी रहा,

हाँ !!

इस आधी छत और आधे आसमान में,

मैं जी रहा ।।

 

If anyhow you find that this creation relates to you! Then their is still time left. Live for yourself, for your dream. After-all,

You live just once!

 

image 3

SHARE
Previous articleMy Indian Dream – Ahead of the Change!
Next articlePROS AND CONS OF ORGANIC FARMING
From the Origin of time many rise and fall like winter weeds, My identity could not be revealed by anyone, My identity could only be revealed if you know me well. There isn't any great mystery about me. What I do is glamorous and has an awful lot of white-hot attention placed on it. But the actual work requires the same discipline and passion as any job you love doing, be it as a very good pipe fitter or a highly creative artist.