कोशिश  करता  हूँ  देखने  की  उन  मासूम  बच्चों   के  नज़रिये  से ,

जो  घूमते   हैं  पटरियों  पर  किसी  लावारिस  की  तरह ,

दुनिया  उन  के  लिए  भी  यही  है   जो  मेरे  लिए  है ,

फिर  ऐसा  क्यों …..?

इन्हें  कर्मों  का  खेल  कहूँ , या  अनपढ़ता  इनके  माँ  बाप  की , जिन्होंने  छोड़  दिया  पैदा  कर  के  इन्हें,

इस  उम्मीद  मे  की  एक  कमाई  का  ज़रिया  बनेंगे , ना  सोचते  हुए  की  ये  खायेंगे  क्या  पियेंगे  क्या ,

जिस  उम्र  में  खेलना  चाहिये बच्चे  को , थमा  दिया  कटोरा  हाथ  में  इनके , जैसे  कोई  खिलौना  हो ,

जहाँ  जाता है अब  यही  कहता है , कुछ  दे  दे  बाबा,

इन्हें  ये  तक  नही  पता , कि  भीख  कहते  किसको  हैं,

कोई  खेल  दिखाता  है  , कोई  शर्ट  से  ही  जूते  साफ़  कर  देता  है,

झिड़क पड़ने  पर  भी  ख़ुशी  ख़ुशी  लौट  जाते  हैं  उछलते  कूदते ,

जैसे कुछ हुआ ही ना हो,

हर  मुसाफिर  के  पाँव  में  गिर  जाते  हैं , गाडी  साफ़  करते  हैं  इस  उम्मीद  में  कि  शायद  दो  पैसे  मिलेंगे और  वही  दे  देंगे  माँ  बाप  को ,

बस यही  काम  था  इनका  जो  कर  दिया  इन्होंने,

माटी  से  सने  हुए  बदन  की  परवाह  नहीं  इन्हें , बस  ये वो  सब  करना  चाहते  हैं , जो  इन्हें  ख़ुशी  दे,

एक  मैं  हूँ  जो  कोसता  है   अपनी  किस्मत  को , अपने  ख़ुदा  को ,

रोता  हूँ  अपनी  बेबसी  पे  कि  कुछ  चीज़े  नहीं  हैं  मेरे  पास ,

 

लेकिन  शायद  यही  बच्चे  कुछ  सिखा  गए  मुझे ,

जब  मेट्रो  पे  खड़ा  निहार  रहा  था  इनको ,

फटी  हुई शर्ट  डाल  कर  भी  खुश  था  कोई ,

कोई  इश्तिहार के  फ्रेम  पे  चढ़  के  करतब  कर  रहा  था ,

ज़मीन  तब  खिसकी  जब  देखा  कि  उसी  फ्रेम  पे  कपडे  बाँध  के ,

बिस्तर  बनाया  हुआ  है  ,

इतनी  ठण्ड  में  बदन  पे  बिना  कपडे  कोई  कैसे  खुश  रह  सकता   है ?

ऐसे  ही  कई  सवाल  घूम  रहे  थे  मन   में ,

कि  अचानक  एक  ख्याल  घर  कर  गया ,

 

खुश  रहने  के  लिए  किसी  सबब  कि  ज़रुरत  नहीं ,

यूँ  भी तो   खुश  रहा  जा  सकता  है ………

 

जो  है  उसे   एहसास  कर  के , उसी  में  जी  के ,

 

सच , उस  दिन  वो  बच्चे  बहुत  कुछ  सिखा  गए